Entertainment

पद्मिनी कोल्हापुरी ने किया खुलासा, बताया क्यों ठुकरा दिया था ‘सिलसिला’ में रेखा वाला रोल?


फिल्म ‘सिलसिला’रेखा के रोल के लिए पहले पद्मिनी कोल्हापुरी को अप्रोच किया गया था. (Instagram @Padmini Kolhapure/Youtube)

बॉलीवुड की दूसरी एक्ट्रेसेस की तरह पद्मिनी कोल्हापुरी (Padmini Kolhapure) ने भी अपने करियर में कई फिल्मों को न कहा जो सुपरहिट रहीं. हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान एक्ट्रेस ने अपने करियर की उन फिल्मों के बारे में बात की जिनको करने से उन्होंने ने मना कर दिया.

नई दिल्ली. अस्सी के दशक की टॉप एक्ट्रेस में से एक पद्मिनी कोल्हापुरी (Padmini Kolhapure) ने कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया है. बॉलीवुड की दूसरी एक्ट्रेसेस की तरह पद्मिनी कोल्हापुरी (Padmini Kolhapure) ने भी अपने करियर में कई फिल्मों को न कहा जो सुपरहिट रहीं. हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान एक्ट्रेस ने अपने करियर की उन फिल्मों के बारे में बात की जिनको करने से उन्होंने ने मना कर दिया और बाद में वो फिल्मों हमेशा के लिए यादगार बन गईं. ऐसी ही एक फिल्म थी ‘सिलसिला’ (Silsila) जिसमें रेखा के रोल के लिए पहले पद्मिनी कोल्हापुरी को अप्रोच किया गया था.

पद्मिनी ने ईटाइम्स से इंटरव्यू के दौरान बताया कि उन्हें फिल्म ‘सिलसिला’ में रेखा के रोल के लिए फिर फिल्म ‘तोहफा’ में श्रीदेवी के रोल के लिए और हिट फिल्म ‘एक दूजे के लिए’ में रति अग्निहोत्री के रोल के लिए अप्रोच किया गया था. पद्मिनी कोल्हापुरी ने इस इंटरव्यू में कहा कि आपके सामने आने वाली हर फिल्म को आप साइन नहीं कर सकते.

इतना ही नहीं इस इंटरव्यू में एक्ट्रेस ने बताया कि उन्होंने कुछ ऐसी फिल्मों के ऑफर भी ठुकराए जो कि बाद में बहुत बड़ी हिट साबित हुईं उन्हीं में से एक थीं ‘राम तेरी गंगा मैली.’ इस फिल्म में मंदाकनी ने काफी बोल्ड सीन दिए थे. लेकिन, पहले ये फिल्म पद्मिनी कोल्हापुरी को ऑफर की गई थी. पद्मिनी से जब पूछा गया कि क्या उन्हें ‘राम तेरी गंगा मैली’ न करने का मलाल है, तो उन्होंने कहा, ‘आप हर फिल्म को हां नहीं कह सकते जो आपको ऑफर की जा रही है. अगर कोई फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ जितनी सफल होती है तो लगता है कि आपको फिल्म में होना चाहिए था.’

पद्मिनी के मुताबिक फिल्म की शूटिंग शुरू होने के बाद भी राज कपूर उन्हें यह फिल्म ऑफर करना चाहते थे. वह कहती हैं, ‘राज जी ने फिल्म के ऑफर को लेकर मुझे दोबारा सोचने के लिए कहा, जबकि मंदाकिनी के साथ वह 45 दिन का शेड्यूल खत्म कर चुके थे.’





You may also like

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *